Tuesday, 29 March 2016

और तो और ललमुनिया की माई बदल गई



ग़ज़ल

रंगत बदली सूरत बदली मिजाज बदला गांव की हवा बदल गई
होली दीवाली बदली और तो और ललमुनिया की माई बदल गई

लेखपालों ने पहले बदला था चकबंदी में अब नेता बन बिल्डर आए हैं
प्लाटिंग शुरु खेत बाग़ में पाट रहे पोखर सिंघाड़े की लतर बदल गई

वह खोज रहे गांव में गांव की बानी हवा सुहानी कुछ भी नहीं मिला
ट्रैक्टर आए बैल गए खलिहान गए कंबाईन आई तो माटी बदल गई

आहिस्ता आहिस्ता बदल रहा गांव गांव का पानी और  जवानी भी
पहले डाल कटी बाग़ के पेड़ कटे फिर आने जाने की राह बदल गई

धीरे धीरे चिन्ह मिटे प्रतीक बदले बुजुर्ग पीपल बरगद हो गए छू मंतर
शहर की आग में जलते गांव में एक झटके से  सारी परंपरा बदल गई

तोता मैना मछली मेढक गिलहरी गौरैया सब सांस थाम कर डरे हुए
कोयल गाती थी झूम झूम जिस घनेरे बाग में वह अमराई दहल गई

न भोजपुरी है न फ़िल्मी है सारे गाने ही गायब हुए विकास की आंधी में
चुनाव बीतते ही पीपल की तरफ से बहने वाली मस्त पुरवाई बदल गई

कहां जाएं किस से रोएं किस से गाएं कौन सुनेगा घायल गांव का गाना 
नेता बिल्डर मीडिया का नेक्सस है तो फिर अख़बारों की ख़बर बदल गई

पहले नदी की धारा बदली फिर सूख गई धीरे से नदी नाव मिट्टी में धंसी
पुल बनने का बजट आया ठेकेदार स्कार्पियो से गांव की चौहद्दी बदल गई

भैस गाय बैल बछिया गांव के भूगोल से सब के सब गायब दूध दही सपना 
विकास आ गया है शहर से गांव में जब से आने जाने की पगडंडी बदल गई

घाट वही हैं नाव वही पंडे पुजारी सब वही लेकिन आने जाने वाले हुए नए   
पूजा पाठ भी बहुत पुराना लेकिन आरती करवाने वालों की मंडी बदल गई

[ 30 मार्च , 2016 ]

4 comments:

  1. Great post!

    Useful information worthy of thanks ,

    http://ixgram.com

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 31 - 03 - 2016 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2298 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर सार्थक सामयिक चिंतन प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. आहिस्ता आहिस्ता बदल रहा गांव गांव का पानी और जवानी भी
    पहले डाल कटी बाग़ के पेड़ कटे फिर आने जाने की राह बदल गई

    कटु सत्य।

    ReplyDelete